Gulzar Shayari I Gulzar Shayari on life in hindi

☆  Best Gulzar Shayari in Hindi

जैसा कि आप जानते होंगे कि Gulzar का जन्म 18 अगस्त 1936 को पाकिस्तान में हुआ था।
Gulzar Shayar बहुत मशहूर Shayar थे,

आज हम आपको Gulzar Shayari in Hindi देंगे,
जो आपको बहुत पसंद आएगी और आपको बहुत अच्छी Hindi Shayari, जैसे Gulzar Quotes

Gulzar Shayari in Hindi 2 Lines on Life
❤❤┄┅══❁♥❁════┅┄❤❤

Gulzar Shayari

Gulzar Shayari

यूँ भी इक बार तो होता कि समुंदर बहता
कोई एहसास तो दरिया की अना का होता,

Yu Bhi Ik Baar To Hota Ki Samundar Bahta
Koi Ehasaas To Dariya Ke Ana Ka Hota.

❤❤┄┅══❁♥❁════┅┄❤❤

Gulzar Shayari

Gulzar Shayari

आइना देख कर तसल्ली हुई
हम को इस घर में जानता है कोई.

Aaina Dekh Kar Tasalli Hui,
Ham Ko Is Ghar Mein Jaanata Hai Koi,

❤❤┄┅══❁♥❁════┅┄❤❤

Gulzar Shayari

Gulzar Shayari

ज़मीं सा दूसरा कोई सख़ी कहाँ होगा,
ज़रा सा बीज उठा ले तो पेड़ देती है,

Zameen Sa Dusara Koi Sakhee Kahan Hoga,
Zara Sa Beej Utha Le To Ped Detee Hai,

❤❤┄┅══❁♥❁════┅┄❤❤

Gulzar Shayari

Gulzar Shayari

वो उम्र कम कर रहा था मेरी,
मैं साल अपने बढ़ा रहा था.

Vo Umr Kam Kar Raha Tha Meri,
Main Saal Apne Badha Raha Tha,

❤❤┄┅══❁♥❁════┅┄❤❤

Gulzar Shayari

Gulzar Shayari

काई सी जम गई है आँखों पर,
सारा मंज़र हरा सा रहता है.

Kaee See Jam Gaee Hai Aankhon Par,
Saara Manzar Hara Sa Rahata Hai.

❤❤┄┅══❁♥❁════┅┄❤❤

Gulzar Shayari

Gulzar Shayari

कैसे कह दूं, इश्क नहीं है तुमसे,
मेरे लिए तो इश्क का मतलब ही तुम हो,

Kaise kah doon, Ishq Nahi hai tumse,
Mere lie to ishk ka matalab hee tum ho,

❤❤┄┅══❁♥❁════┅┄❤❤

Gulzar Shayari

Gulzar Shayari

आँखें पढ़ो और जानो हमारी रजा क्या है,
हर बात लब्जो से हो, तो मजा क्या है,

Aankhen padho aur jano hamari raja kya he,
Har baat labjo se ho, to maja kya hai,

❤❤┄┅══❁♥❁════┅┄❤❤

Gulzar Shayari

Gulzar Shayari

कितना खूबसूरत इत्तेफाक था,
रात अमावस की थी और चांद मेरे पास था,

Kitna khoobsurat ittefaak tha,
Raat Amaavas ki thi aur chaand mere pas tha,

❤❤┄┅══❁♥❁════┅┄❤❤

Gulzar Shayari

Gulzar Shayari

उनकी ना थी कोई खता हम ही गलत समझ बैठे,
वो मोहब्बत से बात करते थे,
हम मोहब्बत समझ बैठे,

Unki na thi koi khata ham hi galat samajh baithe,
Vo mohabbat se baat karate the,
Ham mohabbat samajh baithe,

❤❤┄┅══❁♥❁════┅┄❤❤

Gulzar Shayari

Gulzar Shayari

डर लगता है अब इश्क़ जताते हुए,
अक्सर रूठ जाता हूं, तुम्हें मनाते हुए,

Dar lagta hai ab ishq jatate hue,
Aksar Roth jaata hoon, tumhen manate hua,

❤❤┄┅══❁♥❁════┅┄❤❤

Gulzar Shayari

Gulzar Shayari

सहर न आई कई बार नींद से जागे,
थी रात रात की ये ज़िंदगी गुज़ार चले,

Sahar Na Aaee Kaee Baar Neend Se Jaage
Thee RaT RaamT ki Ye Zindagee Guzar Chale,

❤❤┄┅══❁♥❁════┅┄❤❤

Gulzar Shayari

Gulzar Shayari

कितनी लम्बी ख़ामोशी से गुज़रा हूँ
उन से कितना कुछ कहने की कोशिश की,

Kitni Lambee Khaamoshee Se Guzara Hoon
Un Se Kitana Kuchh Kahane Kee Koshish Ki,

❤❤┄┅══❁♥❁════┅┄❤❤

Gulzar Shayari

Gulzar Shayari

बदल जाओ वक़्त के साथ या वक़्त बदलना सीखो,
मजबूरियों को मत कोसो, हर हाल में चलना सीखो.

Badal Jaate Waqt Ke Sath Ya Waqt Badalna Seekho,
Majbooriyon Ko Mat Koso, Har Haal Mein Chalana Seekho,

❤❤┄┅══❁♥❁════┅┄❤❤

Read Now 👉 : 500+ New Romantic Shayari in Hindi 2020

Gulzar Shayari on Love

Gulzar Shayari

Gulzar Shayari

ज्यादा कुछ नहीं जानता मैं मोहब्बत के बारे में,
बस तुम सामने आती हो तो तलाश ख़तम हो जाती है,

Jyaada kuchh nahin jaanata main mohabbat ke baare mein,
Bas tum saamane aati ho to talaash khatam ho jaati hai,

❤❤┄┅══❁♥❁════┅┄❤❤

Gulzar Shayari

Gulzar Shayari

जब भी ये दिल उदास होता है,
जाने कौन दिल के पास होता है.

Hab Bhi Ye Dil Udaas Hota Hai,
Jaane Kon Dil Ke Paas Hota Hai,

❤❤┄┅══❁♥❁════┅┄❤❤

Gulzar Shayari

Gulzar Shayari

आँखों में आंसू दिल में जलन रहती हैं,
जब वो तस्वीर में, किसी से संग रहती है,

Aankhon mein aansoo dil mein jalan rahati hain,
Jab vo tasveer mein, kisi se sang rahati hai,

❤❤┄┅══❁♥❁════┅┄❤❤

Gulzar Shayari

Gulzar Shayari

काश तू सिर्फ मेरा होता,
या फिर कभी मिला ही नहीं होता,

Kaash tu sirf mera hota,
ya phir kabhi mila hi na hota,

❤❤┄┅══❁♥❁════┅┄❤❤

Gulzar Shayari

Gulzar Shayari

वक़्त भी हार जाते हैं कई बार ज़ज्बातों से,
कितना भी लिखो, कुछ न कुछ बाकि रह जाता है,

Waqt BhI Haar Jaate Hain Kai Baar Zajbaaton Se,
Kitna BhI Likho, Kuch Naa Kuch Baki Rah Jaata Hai,

❤❤┄┅══❁♥❁════┅┄❤❤

Gulzar Shayari

Gulzar Shayari

मिले तो हजारों लोग थे जिंदगी में,
पर वो सबसे अलग थी वो किस्मत में नहीं थी,

Mile to hajaaron log the jindagi mein,
Par vo sabase alag thi jo kismat mein nahi thi,

❤❤┄┅══❁♥❁════┅┄❤❤

Gulzar Shayari

Gulzar Shayari

कभी तो चौंक के देखे कोई हमारी तरफ,
किसी की आँख में हम को भी इंतज़ार दिखे,

Kabhi To Chaunk Ke Dekhe Koi Hamai Taraf,
Kise ki Aankh Mein Ham Ko Bhi Intezaar Dikhe,

❤❤┄┅══❁♥❁════┅┄❤❤

Gulzar Shayari

Gulzar Shayari

गजब का एहसास होता है एकतरफा इश्क़ में,
ना इजहार ही ख़ुशी, ना इंकार का गम,

Gajab ka ehasaas hota hai ek tarfa ishq mein,
Na ijahaar hi khushi, na inkaar ka gam,

❤❤┄┅══❁♥❁════┅┄❤❤

Gulzar Shayari

Gulzar Shayari

हमने अक्सर तुम्हारी राहों में रुक कर,
अक्सर अपना ही इंतज़ार किया,

Hamne Aksar Tumhari Rahon Mein Ruk Kar,
Aksar Apna Hi Intezaar Kiya,

❤❤┄┅══❁♥❁════┅┄❤❤

Gulzar Shayari

Gulzar Shayari

सफल रिश्तों के बस यही उसूल है,
बातें भूलिए जो फिजूल है,

Safal Rishton Ke Bas Yahi Usool Hai,
Baaten Bhooliye Jo Fijool Hai,

❤❤┄┅══❁♥❁════┅┄❤❤

Gulzar Shayari

Gulzar Shayari

एक तेरा ही तो खयाल है मेरे पास,
वरना कौन अकेले में मुस्कुराता है,

Ek tera hi to khayaal hai mere paas,
Varna kaun akele mein Muskuraata hai,

❤❤┄┅══❁♥❁════┅┄❤❤

Gulzar Shayari

Gulzar Shayari

महफ़िल में गले मिलकर वह धीरे से कह गए,
यह दुनिया की रस्म है, इसे मुहोब्बत मत समझ लेना,

Mahafil Mein Gale Milkar Vah Dheere Se Kah Gae,
Yah Duniya Ki Rasm Hai, Ise Mohabbt Mat Samajh Lena,

❤❤┄┅══❁♥❁════┅┄❤❤

Gulzar Shayari

Gulzar Shayari

कौन कहता है की हम झूंठ नहीं बोलते,
एक बार खैरियत तो पूछ के देखिये जनाब,

Kaun Kahta Hai ki Ham Jhuth Nhi Bolte,
Ek Baar Khairiyat To Puch Ke Dekhiye Janaab,

❤❤┄┅══❁♥❁════┅┄❤❤

Gulzar Shayari

Gulzar Shayari

थोडा है थोड़े की ज़रूरत है,
ज़िन्दगी फिर भी यहाँ की खुबसूरत है,

Thoda Hai Thode Ki Zaroorat Hai,
Zindagi Phir Bhi Yahaan Ki Khubsurat Hai,

❤❤┄┅══❁♥❁════┅┄❤❤

तजुर्बा बता रहा हूँ ऐ दोस्त दर्द, गम,
डर जो भी हो बस तेरे अन्दर है,
खुद के बनाए पिंजरे से निकल कर तो देख,
तू भी एक सिकंदर है,

Tajurba Bata Raha Hoon Aey Dost Dard,
Gam Dar Jo Bhi Ho Bas Tere Andar Hai,
Khud Ke Banay Pinjare Se Nikal Kar To Dekh, Tu Bhi Ek Sikandar Hai,

❤❤┄┅══❁♥❁════┅┄❤❤

Share this:

 

Read More –Hindi Romantic Shayari I New Romantic Shayari I रोमांटिक शायरी हिन्दी

 

Hindi Romantic Shayari I New Romantic Shayari I रोमांटिक शायरी हिन्दी

Image Source – Google 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *